ताजा ख़बरेंबिहारबेतियाब्रेकिंग न्यूज़राज्य

मझौलिया थाना कांड संख्या 746 / 2020 का आवेदक पहुंचा डीआईजी के दरबार में।

कांड के अनुसंधानकर्ता पर लगाया गंभीर आरोप।


न्यूज़ शंभू पांडेय मझौलिया।
सूचक के मुकदमा को बिगाड़ने और आरोपितों को फायदा पहुंचाने का किया लिखित शिकायत।
गवाहों और जख्मी के बयान में हेरफेर करने का लगाया आरोप।

 

मझौलिया थाना क्षेत्र अंतर्गत तिरवाह के चर्चित गोलीबारी की घटना में साक्ष्य मिलने के बावजूद अभी तक कार्रवाई नहीं होने से मझौलिया पुलिस पर सवालिया निगाहों से देखा जा रहा है। बताते है कि मझौलिया थाना कांड संख्या 746/ 2020 के सूचक अशफाक अहमद ने पुलिस उप महानिरीक्षक चंपारण रेंज बेतिया को एक आवेदन देकर कांड के अनुसंधानकर्ता द्वारा आरोपितों के मेल में आकर सूचक के मुकदमा को बिगाड़ने तथा आरोपितों को फायदा पहुंचाने की नीयत से सूचक के गवाहों एवं जख्मी द्वारा दिए गए बयान में हेरफेर कर केस डायरी में दर्ज करने एवं पर्यवेक्षण में कांड सत्य होने के बाद भी अभियुक्तों की गिरफ्तारी नहीं करने का गंभीर आरोप लगाया है।
आवेदक ने अपने आवेदन में उल्लेख किया है कि कांड के अनुसंधानकर्ता पूर्ण रूप से आरोपितों के दबाव तथा मेल में आकर गवाहों एवं कांड के जख्मियो का बयान केस डायरी में उनके बताए अनुसार नहीं लिख कर अपनी मर्जी से आरोपितों को फायदा पहुंचाने की नियत से बयान में हेराफेरी कर डायरी में दर्ज किए हैं। आरोप है कि कांड के जख्मियों द्वारा मोतिहारी के रहमानिया अस्पताल में स्पष्ट रूप से बयान दिया गया है कि किसने गोली मारी किंतु केस डायरी पढ़ने से स्पष्ट हो रहा है कि अनुसंधानकर्ता द्वारा गोली मारने वाले के नाम व पहचान के विषय में अपनी मर्जी से आरोपितों को फायदा पहुंचाने के लिए बयान दर्ज किया गया है। आवेदक का कहना है कि उनके बयान का वीडियो ग्राफी भी मोबाइल में मौजूद है। जिसमें आवेदक ने आवेदन में लिखा है कि उसी प्रकार कुछ ऐसे व्यक्तियों का बयान केश डायरी में दर्ज किया गया है जिन्होंने शपथ पत्र पर यह बयान दिया है कि उन्हें इसके विषय में कोई जानकारी नहीं है। और उनका बयान भी अनुसंधानकर्ता द्वारा नहीं लिया गया है। आवेदक का कहना है कि अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सदर बेतिया द्वारा अपने पर्यवेक्षण टिप्पणी में अनुसंधानकर्ता को यह निर्देश दिया गया है कि झगड़ा का वीडियो ग्राफी देखकर कुछ अज्ञात व्यक्तियों का पहचान कर दैनिकी में दर्ज करें। इसके बावजूद भी अनुसंधानकर्ता द्वारा आदेश का पालन नहीं किया गया।
आवेदक ने पुलिस उपमहानिरीक्षक चंपारण रेंज बेतिया से गुहार लगाई है कि अनुसंधानकर्ता के विरुद्ध अपने स्तर से यथोचित कार्यवाही करने एवं अभियुक्तों की गिरफ्तारी कराने की कृपा करें।
आवेदक अशफाक अहमद ने आवेदन की प्रतिलिपि पुलिस अधीक्षक बेतिया पश्चिम चंपारण अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सदर बेतिया पश्चिम चंपारण तथा थाना प्रभारी मझौलिया पश्चिम चंपारण को भी प्रेषित किया है।
सूत्रों की माने तो पुलिस उपमहानिरीक्षक चंपारण रेंज बेतिया द्वारा आवेदन के आलोक में जांच का आदेश दे दिया गया है।
बताते चलें कि इस गोलीबारी की घटना को लेकर दोनों पक्षों द्वारा मझौलिया थाना में मुकदमा दर्ज कराया गया है।
घटना हरपुर गढ़वा पंचायत के भोगाड़ी गांव की है।
कांड के अनुसंधानकर्ता दरोगा अब्दुल हाफिज का कहना है कि अनुसंधान जारी है। वरीय अधिकारी का आदेश प्राप्त होते ही निर्देशानुसार कारवाई की जाएगी।

Related Articles

Back to top button