Uncategorized

बैरिया क्षेत्र में लगा नेटवर्क टावर  पूरी तरह ध्वस्त….

 

ब्यूरो चीफ नित्यानंन्द सिंह

बलिया बैरिया।क्षेत्र में लगाया गया बोडा, जियो टावर लगभग पूरी तरह ध्वस्त है, नाम बड़े और दर्शन छोटे कहावत बोडा, जियो नेटवर्क पर चरितार्थ होती दिख रही है।आज के समय में हर व्यक्ति के हाथ में मोबाईल है यह यंत्र आम आदमी के लिये अतिआवश्यक बन चुका है। इंसान अपने आधा कामों का निपटारा इसी यंत्र के माध्यम से कर लेता है। ऐसी स्थिति में बैरिया , रानीगंज बाजार, सुरेमनपुर,तालीवपुर,बकुलहा,गोपाल नगर दोकटी, लालगंज आदि क्षेत्र के लोगों को जियो का समुचित सुविधा ना मिल पाना एक प्रकार की गंभीर मानसिक प्रताड़ना से कम नही है। गौरतलब है कि रानीगंज बाजार, मधुबनी, नारायणगढ़, आदि टावर कई माह से बोडा,जियो का नेटवर्क अपने बदहाली पर मजबूर है। बता देगी जियो टावर लगने की सूचना मिलते ही स्थानी आस पास के लोग में खुशी की लहर दौड़ आई और आनन-फानन में अन्य कंपनी द्वारा संचालित नेटवर्क को छोड़ कर जियो में पोर्ट करवा लिया आज यही उपभोक्ता अपने भूल पर पश्चाताप के आंसू बहा रहे हैं। शुरू शुरू में टावर लगने के बाद कुछ दिन तक नेटवर्क बहुत बढ़िया काम किया लेकिन टावर फिर हाथ पैर सिकोड़ लिये और उपभोक्ता अपने नंबर को रिचार्ज करके भी कहीं बात नहीं कर पा रहे हैं और उनका बैलेंस बिना मतलब के ही खर्चा होता चला जा रहा है । इन सभी परेशानियों से त्रस्त होकर उपभोक्ताओं ने जिओ कंपनी के इस टावर में सही और जल्द सुधार ना होने की स्थिति में इस टावर को ही अन्य जगहों में विस्थापित करने की मांग की है ताकि उन्हें बेहतर से बेहतर सेवा मिल सके। जियो की लचार नेटवर्क से उपभोक्ता परेशान है
कोटवा निवासी बिनोद सिह (टिकर) , मधुबनी निवासी पवन सिंह, शिवाल मठिया निवासी ओमप्रकाश सिंह, गुमानी के डेरा अरविंद यादव की माने तो बोडा जियो इस क्षेत्र के लिए मानसिक प्रताड़ना है, क्षेत्र के लगभग समस्त स्थानीय निवासी जियो में पोर्ट करवाने की वजह को अपनी भयंकर भूल मानकर ,गलती का अहसास करते दिखे और बचे दो चार अन्य कंपनियों वाले उपभोक्ताओं से निवेदन कर जियो में पोर्ट न करवाने का अनुरोध भी किया,
रानीगंज बाजार, गोनियाछपरा उपभोक्ता जियो का नाम तक लेने पर क्रोधित मुद्रा में दिखे, यही आलम अन्य तमामों ग्रामसभाओं का रहा इन सभी के रुझान भी उपर्युक्त तथ्यों पर ही आधारित रहा,समय रहते जियो कंपनी को ध्यान देने की जरूरत है ।

Related Articles

Back to top button