ताजा ख़बरेंबिहारबेतियाब्रेकिंग न्यूज़राज्य

समग्र स्वास्थ्य के लिए योग के तहत सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ छह दिवसीय ऑनलाइन योग प्रशिक्षण शिविर।

योग प्रशिक्षक श्री प्रेमनाथ द्वारा सुबह 06.00 से 07.00 बजे तक जिले के उन्नयन एवं डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन के फसेबुक पेज पर कराया गया योगाभ्यास।

एक लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं सहित उनके अभिभावक एवं समूचे जिलेवासियों ने लिया ऑनलाइन योग प्रशिक्षण का लाभ।

उर्धताड़ासन, त्रियक ताड़ासन, कटिचक्रासन, लघु शंख प्रच्छालन, मकरानसन, भुजंग आसन, शलभासन, मरकट आसन, भस्त्रिका प्राणायाम, कपाल भाति प्राणायाम, अनुलोम-विलोम प्राणायाम, उज्जयी प्रणायाम आदि योगाभ्यास से लोगों को हुआ फायदा।

फेसबुक कमेंट में लोगों ने कहा-जिला प्रशासन द्वारा किया गया कार्य अत्यंत ही सराहनीय, ऐसा आयोजन समय-समय पर जिला प्रशासन करता रहे।

बेतिया मोहन सिंह। जिला प्रशासन की पहल पर जिले में छह दिवसीय ऑनलाइन योग प्रशिक्षण शिविर का आयोजन दिनांक-05.06.2021 से दिनांक-10.06.2021 तक प्रातः 06.00 बजे से 07.00 बजे तक सफलतापूर्वक किया गया। ऑनलाइन योग प्रशिक्षण शिविर में योग प्रशिक्षक, श्री प्रेमनाथ द्वारा योगाभ्यास कराया गया तथा योग से होने वाले विभिन्न प्रकार के लाभ से लोगों को अवगत कराया गया। छह दिवसीय योगाभ्यास शिविर का ऑनलाइन लाभ अभिभावकों के साथ ही समूचे जिलेवासियों ने लिया। सैकड़ों लोगों को योगाभ्यास से फायदा हुआ है। फेसबुक कमेंट में लोगों ने कहा-जिला प्रशासन द्वारा किया गया कार्य अत्यंत ही सराहनीय है, ऐसा कार्यक्रम समय-समय पर होता रहे ताकि जिलेवासी इसका लाभ लेकर स्वस्थ रह सके।

योग गुरू, प्रेमनाथ जी के द्वारा लघु शंख प्रच्छालन की क्रिया का अभ्यास कराया गया जिसमें सुबह बिस्तर से उठते ही कुल्ली कर 1-2 ग्लास सुसुम पानी पीने के पश्चात उन क्रियाओं यथा-उर्धताड़ासन, त्रियक ताड़ासन, कटिचक्रासन, कटिचक्रासन-02 को किया जाना होता है, जो व्यकित के आंतों की सफाई करने में बहुत ही लाभदायक सिद्ध होते हैं।

प्रेमनाथ जी के द्वारा गर्दन दर्द, पीठ दर्द, कमर दर्द, घुटना दर्द, सायटिका दर्द के लिए चार महत्वपूर्ण आसनों का अभ्यास कराया गया जिसमें मकरासन, भुजंग आसन, शलभासन, मरकट आसन शामिल हैं।

योगाभ्यास के क्रम में योग की क्रियाओं में प्राणायाम की क्रियाओं पर अत्यधिक अभ्यास कराया गया, जो व्यक्ति को स्वस्थ रखने में और रोगों से धीरे-धीरे मुक्ति पाने में बहुत ही सहायक सिद्ध होता है। उनमें भस्त्रिका प्राणायाम, कपाल भाति प्राणायाम, अनुलोम-विलोम प्राणायाम, उज्जयी प्राणायाम आदि शामिल है। भस्त्रिका प्राणायाम फेफड़ों को सबल बनाता है, हृदय को मजबूत बनाता है, बीपी में लाभप्रद होता है, माइग्रेन, डिप्रेशन, अनिन्द्रा आदि में लाभदायक होता है।

वहीं कपाल भाति प्राणायाम को करने से शरीर के सारे मुख्य अंग यथा-लीवर, गाॅल ब्लाॅडर, किडनी, स्पलीन, इन्टेस्टाइन, स्टोमेक प्रोस्टेट, यूट्रस, ओभरी, हार्ट, लंग्स, थायरायड ग्लैन्डस की क्रियाशीलता बढ़ जाती है। इन सभी अंगों का अंदर ही अंदर एक्सरसाईज होता रहता है, जिससे ये अंग सुचारू रूप से अपना-अपना कार्य संपादित करते रहते हैं और व्यक्ति स्वस्थ रहा करता है। योगगुरू ने बताया कि कपाल भाति प्राणायाम पृथ्वी की संजीवनी के रूप में विख्यात है।

अनुलोम-विलोम प्राणायाम हृदय रोगियों के लिए, बीपी रोगियों के लिए, माइग्रेन रोगियों के लिए, डिप्रेशन के रोगियों के लिए, पैरालाइसिस (लकवा) रोगियों के लिए, चर्मरोग के लिए, आंखों के लिए बहुत ही फायदेमंद है। उज्जयी प्राणायाम थायराड के रोगियों के लिए, गले के रोगियों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

इसके साथ ही योगगुरू, श्री प्रेमनाथ जी द्वारा एक दिन का सत्र मोटापा दूर करने के लिए, फैट को कम करने के लिए, पेट की चर्बी कम करने के लिए, शरीर को स्लीम बनाए रखने के लिए कुछ लेटकर व्यायाम, कुछ खड़े होकर व्यायाम, एक ही स्थान पर दौड़ लगाने और पेट कम करने हेतु एरोबिक एक्सरसाइज पर बल दिया, जो मोटापा घटाने में बहुत ही सहायक सिद्ध होता है।

ज्ञातव्य हो कि कोरोना महामारी से उत्पन्न विकट परिस्थिति में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के निमित विद्यालयों में पठन-पाठन का कार्य नहीं हो पा रहा है। जिले के छात्र-छात्राओं के पठन-पाठन की वैकल्पिक व्यवस्था के तहत ऑनलाइन क्लासेज नियमित रूप से विभिन्न सोशल प्लेटफाॅर्म पर संचालित किया जा रहा है। सोशल प्लेटफाॅर्म पर संचालित ऑनलाइन क्लासेज का लाभ जिले के छात्र-छात्राओं को भलीभांति मिल रही है।
विद्यालय में पठन-पाठन संचालित होने के दरम्यान छात्र-छात्राएं खेलकूद, व्यायाम के साथ विभिन्न प्रकार के मनोरंजक, ज्ञानवर्धक तरीके से विभिन्न क्रियाकलापों में व्यस्त रहते थे जिससे उनका स्वास्थ्य उतम रहता था। कोरोना महामारी के चलते छात्र-छात्राएं घरों में रह रहे हैं। ऐसे समय में शिक्षा विभाग द्वारा एक अनूठी पहल शुरू की गयी। जिससे कोरोना संक्रमण काल में योगाभ्यास के माध्यम से छात्र-छात्राओं में स्फूर्ति, एकाग्रता बढ़ी है।

जिलाधिकारी, कुंदन कुमार द्वारा सफलतापूर्वक छह दिवसीय ऑनलाइन योग प्रशिक्षण शिविर का आयोजन कराने हेतु जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, माध्यमिक शिक्षा, पश्चिम चम्पारण, श्री राजन कुमार को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया था। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, माध्यमिक शिक्षा द्वारा उक्त निदेश के आलोक में सभी तैयारियां बखूबी कर ली गयी थी। इस हेतु जिला मुख्यालय के विपिन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के स्मार्ट क्लास हाॅल को विशेष रूप से तैयार किया गया। उन्नयन बिहार योजना, पश्चिम चम्पारण शाखा की टेक्निलकल टीम के माध्यम से ऑनलाइन योग प्रशिक्षण शिविर के संचालन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।

दिनांक-05.06.2021 से दिनांक-10.06.2021 तक छह दिवसीय ऑनलाइन योग प्रशिक्षण शिविर के आयोजन का लाइव प्रसारण https://www.facebook-com/dm-westchamparan एवं https://www.facebook-com/unnayanbiharwc पर सफलतापूर्वक किया गया। एक लाख से ज्यादा लोगों द्वारा योगाभ्यास का लाभ लिया गया। साथ ही 500 से अधिक व्यक्तियों द्वारा शेयर भी किया गया है। जो जिलेवासी अबतक उक्त ऑनलाइन योगाभ्यास का लाभ नहीं ले पायें हैं, वे उक्त फेसबुक लिंक पर जाकर योगा का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Related Articles

Back to top button