ताजा ख़बरेंबिहारबेतियाब्रेकिंग न्यूज़राज्य

गंडक नारायणी के किनारे श्रावणी पूर्णिमा के अवसर पर महाआरती का आयोजन

श्रावणी पूर्णिमा के मौके पर भारत नेपाल सीमा पर अवस्थित बेलवा घाट परिसर में 105 वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का आयोजन हर्षोल्लास के साथ किया गया।

बगहा । ब्यूरो नसीम खान ‘क्या’/सैफ अंसारी वाल्मीकिनगर ।
श्रावणी पूर्णिमा के मौके पर भारत नेपाल सीमा पर अवस्थित बेलवा घाट परिसर में 105 वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का आयोजन हर्षोल्लास के साथ किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर किया गया। आचार्य पंडित अनिरुद्ध द्विवेदी ने कहा कि श्रावणी पूर्णिमा का विशेष महत्व है । इस महीने में सबसे कम पाप होता है। जीवो की हत्या सबसे कम होती है। पर्यावरण संरक्षण संवर्धन, प्राकृतिक धरोहरों की रक्षा के साथ साथ वाल्मीकि नगर पर्यटन को बढ़ावा देना इस महाआरती का उद्देश्य है । यहां की गंगा जमुनी तहजीब सबको आकर्षित करती है। इस मौके पर अशोक गुप्ता ,दीया कुमारी,शांति देवी, धनवंती देवी,निशा देवी, अनमोल कुमार,लीला देवी,मंजू देवी ,संध्या देवी,श्याम राजी देवी,धनवंती देवी, अमन कुमार,आदि की भूमिका सराहनीय रही ।बतातें चकें की कार्यक्रम के बीच बीच मे नारायणी गंडकी माता की जय ,गंगा मैया की जय ,त्रिवेणी धाम की जय ,वाल्मीकि धाम की जय ,आदि जयकारे से कार्यक्रम स्थल गुंजायमान होता रहा । बड़ी संख्या में महिलाएं भी इस कार्यक्रम में शामिल हुई । महिलाओं ने समवेत स्वर में पारंपरिक भजनों द्वारा नारायणी गंडकी महाआरती की सार्थकता को सिद्ध किया।

Related Articles

Back to top button