ताजा ख़बरेंबिहारबेतियाब्रेकिंग न्यूज़राज्य

कोहड़ा नदी व गंडक नहर के 62 आरडी वाले जर्जर व जाम पुल से नगर निगम क्षेत्र की जल निकासी बाधित:गरिमा

सुबह से शाम तक सघन निरीक्षण के बाद नगर निगम की निवर्त्तमान सभापति ने लोगों को दिया निदान कराने का आश्वासन,

जनता का आशीर्वाद मिला तो अगले कार्यकाल में करेंगी इस दशकों पुरानी समस्या के निदान के लिए प्रभावकारी कार्रवाई

बेतिया मोहन सिंह। नगर निगम की निवर्त्तमान सभापति गरिमा देवी सिकारिया ने शनिवार को सुबह से शाम तक नगर निगम के पिपरा पकड़ी से लेकर मझौलिया के बखरिया पंचायत तक में जाकर नगर निगम क्षेत्र की जल निकासी में बाधा बन 62 आरडी के जर्जर पुल का दौरा किया।

 

बेतिया से बखरिया पहुंची कोहड़ा नदी गंडक नहर के 62 आरडी पर क्रॉस कर के सिकरहना नहीं में मिल जाती है। कोहड़ा नदी के सिकरहना नदी में मिल कर अपनी प्राकृतिक स्थिति को प्राप्त करने में यहां के संधिस्थल 62 आरडी के जर्जर पुल से बेतिया नगर निगमक्षेत्र की भी निर्बाध जल निकासी बाधित है। उन्होंने निरीक्षण और स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के हवाले से बताया कि बखरिया से आगे जाकर कोहड़ा के नाम से स्थापित चन्द्रावत नदी के सिल्ट जाम पड़े इस 62 आरडी पुल से जल निकासी बाधित है। जिसके कारण नगर निगम में शामिल पूर्ववर्ती बेतिया प्रखण्ड के कम से चार पंचायतों के साथ मझौलिया अंचल के तीन पंचायतों की जल निकासी दशकों से बड़ी समस्या होने के बावजूद इस ओर ध्यान नहीं दिया गया है। श्रीमती सिकारिया ने बताया कि शनिवार को नगर निगम क्षेत्र के भ्रमण के दौरान लोगों द्वारा जिला मुख्यालय के शहर से लेकर करीब 10 वर्ग किलोमीटर विस्तार वाले इस पूरे क्षेत्र का सघन दौरा करने के बाद उन्होंनो पाया है कि करीब चार दशक से जर्जर और सिल्ट से जाम इस पुल का जीर्णोद्धार या नवनिर्माण हो जाने के बाद सम्पूर्ण बेतिया नगर निगम क्षेत्र की जल निकासी की समस्या का समाधान हो जाएगा। नगर निगम की निवर्त्तमान सभापति ने बताया कि अगले कार्यकाल के लिए जनता का आशीर्वाद मिला तो लाखों की शहरी और ग्रामीण आबादी की इस विकट समस्या का त्वरित निदान की पहल को अपनी पहली प्राथमिकता में रखूंगी। बताते चलें कि चंद्रावत एवं कोंहड़ा नदी का अपहरण कर लिया गया है अतिशयोक्ति नहीं होगी यानी कि पूरी तरह से इन नदियों का अधिकांश भाग दशकों से अतिक्रमण कर लिया गया है इस बात से इनकार भी नहीं किया जा सकता जिस को मुक्त कराना है सरकार एवं जिला प्रशासन के बूते से बाहर की बात हो गई है

Related Articles

Back to top button