ब्रेकिंग न्यूज़
Home » Recent » बीजेपी सांसद और विधायक आपस में भिड़े, अखिलेश का तंज- जूतों का सादर आदान

बीजेपी सांसद और विधायक आपस में भिड़े, अखिलेश का तंज- जूतों का सादर आदान

 

-मंत्री आशुतोष टंडन की अगुवाई में हो रही कार्ययोजना समिति की बैठक में हुई मारपीट
-शिलापट पर नाम ना लिखा होने पर भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी भड़क गए

उत्तर प्रदेश संत कबीर नगर ।कलेक्ट्रेट में योगी सरकार में मंत्री आशुतोष टंडन की अगुआई में बुधवार को जिला कार्ययोजना समिति की बैठक हुई इस दौरानशिलापट में नाम ना होने को लेकर बीजेपी के सांसद और विधायक आपस में भिड़ गए। इस दौरान संतकबीर नगर से बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी ने अपनी ही पार्टी के विधायक राकेश सिंह को जूते से पीटा। इसके बाद दोनों नेताओं के समर्थकों ने भी मारपीट की दोनों नेताओं में फाउंडेशन स्टोन पर नाम लिखवाने को लेकर मारपीट हुई।इस दौरान भारी हंगामे और मारपीट से मौके पर अफरातफरी भी मच गई ।आसपास मौजूद लोगों ने मामले को आगे बढ़ने से बचाने के लिए बीच बचाव किया। इस विवाद को लेकर जमकर नारेबाजी भी हुई. ये मारपीट कलेक्ट्रेट में चल रही जिला कार्ययोजना समिति की बैठक के दौरान हुई। दोनों नेताओं के बीच हो रही मारपीट को रोकने के लिए मौजूद पुलिस अधिकारियों ने कोशिश की, लेकिन दोनों नहीं रूके.

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में शरद त्रिपाठी बार-बार कहते हुए सुने जा सकते हैं कि सांसद कौन है। सवाल-जवाब के दौर के बाद सांसद शरद त्रिपाठी अपना आपा खो बैठे और जूता निकाल कर विधायक राकेश सिंह को पीटने लगे। हालांकि मेंहदावल से विधायक राकेश सिंह भी अपनी सीट से उठे और शरद त्रिपाठी के पास पहुंचे और उसी अंदाज में जवाब दिया, लेकिन फर्क सिर्फ इतना था कि विधायक जी ने अपने जूते नहीं निकाले थे

-घटना पर अखिलेश का तंज- जूतों का सादर आदान-प्रदान हुआ
अखिलेश यादव ने इस घटना पर ट्वीट किया- उप्र में विश्व की सबसे अनुशासित राजनीतिक पार्टी का दावा करने वाली भाजपा के सांसद और विधायकजी के मध्य जूतों का सादर आदान-प्रदान हुआ। यह आगामी चुनावों में अपनी हार से आशंकित भाजपा की हताशा है। सच तो ये है कि लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए भाजपा को प्रत्याशी ही नहीं मिल रहे हैं।

Comments

comments

x

Check Also

बैरिया : चार माह से पानी टंकी का मोटर चला,  गांव में पेयजल के लिए हाहाकार… पानी टंकी बनी शोपीस..

🔈 Listen to this ब्यूरो नित्यानंन्द सिंह सीएम हेल्प नंबर 1076 पर भी कंप्लेन करने के बाद कागज में ही ...