ब्रेकिंग न्यूज़
Home » Recent » स्वास्थ्य विभाग के सभी संविदा कर्मी 21 जनवरी से अपने हकों के लिए आवाज प्रदेश तक..

स्वास्थ्य विभाग के सभी संविदा कर्मी 21 जनवरी से अपने हकों के लिए आवाज प्रदेश तक..

ब्यूरो नित्यानंद सिंह
बलिया बैरिया । अपनी मांगों को लेकर को लेकर जिले के स्वास्थ्य विभाग के सभी संविदा कर्मी 21 जनवरी 2019 को खड़े रहकर अपने हकों के लिए आंदोलन की आवाज प्रदेश व देश की राजधानी तक पहुचानी होगी  और अन्य प्रदेशों को जागरूक सन्देश दें कि देश भर में संविदा स्वास्थ्य आंदोलन शुरू हो जाये। 
21 जनवरी 2019 से हड़ताल पर रहेंगे। उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य संविदा कर्मी संघ सरकार के समक्ष विभिन्न माध्यमों से एवं अनेक कार्यक्रमों में सहानुभूतिपूर्वक अपनी मांगे विचार करने हेतु सरकार के समक्ष रखा गया। लेकिन आज तक सरकार के द्वारा कार्यवाही नहीं किये जाने से सभी स्वास्थ्य संविदा कर्मियों के बीच असंतोष व्याप्त होता चला गया। हड़ताल के दौरान सभी संविदा कर्मी मुख्यालय में तालांबदी एवं शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन करेंगे। इसकी जानकारी सञ्जय पंकज शर्मा प्रदेश संगठन मंत्री  ने दिया
जब पीड़ितों व शोषित वर्ग को अपने अधिकारों की इच्छा तीव्र होती है, जब उनको पाने की महत्वकांक्षा संवर्ग में व्यापक हो जाती है और कोई दमनकारी यूनिट इसके विपरीत खड़ा होकर अपनी पूरी क्षमता से इसे दबाना चाहता हैं तो अधिकारों की यही इच्छा धीरे-धीरे संघ आंदोलन का स्वरुप ले लेती हैं और एक बार जब यह आर या पार की मशाल लेकर निकल पड़ती है तो कितनी भी बड़ी दमनकारी व्यवस्था हो उसे झुकना ही पड़ता हैं, उसे उन हकों को देना पड़ता है।
      प्रदेश संगठन मंत्री पंकज शर्मा ने बोला की  इतिहास साक्षी है, इस बात का गवाह है कि आंदोलन के समक्ष बड़ी से बड़ी ताकत को झुकना पड़ा है। पर ध्यान रहे साथियों कि इसके विपरीत साथियों की एकजुटता के अभाव में बड़ी से बड़ी क्रांति व आंदोलन को भी विफल होना पड़ा हैं, अतः इस बार किसी भी स्तर पर पीछे नहीं हटना है। 
          १८५७ की क्रांति में जब बरैकपुर में एक भारतीय सिपाही मंगल पांडे अंग्रेजो के खिलाफ हथियार उठा लेता है, और देखते ही देखते क्रांति की लपट बंगाल, बिहार,अवध अम्बाला, मेरठ इत्यादि जगहों से होते हुए दिल्ली पहुची। 
       शायद भगत सिंह जी आंदोलन के महत्व को अच्छी तरह समझते थे वे आम जनता में आजादी की भावना लाना चाहते थे, शायद इसी लिए वो असेम्बली में बम फ़ेकने के बाद भागे नहीं अपनी गिरफ्तारी दी ताकि लोगों में यह सन्देश जा सके कि जब एक लड़का अँग्रेजों के खिलाफ खड़ा सकता हैं तो पूरा देश क्यों नहीं। 21 जनवरी 2019 को खड़े रहकर अपने हकों के लिए आंदोलन की आवाज प्रदेश व देश की राजधानी तक पहुचानी होगी और अन्य प्रदेशों को जागरूक सन्देश दें कि देश भर में संविदा स्वास्थ्य आंदोलन शुरू हो जाये। 
          
          १९७७ में आपातकाल के समय श्री जय प्रकाश नारायण ने पटना से सम्पूर्ण क्रांति का नारा देते हुए कहा था – सिहांसन छोड़ो कि जनता आती हैं। 
           यहाँ मैं कोई राजनीति की बात नहीं कर रहा महज इन उदाहरणों से बस यह सिद्ध करना चाहता हूँ कि एक बार अगर यदि हमारा 21 जनवरी 2019 का आंदोलन अपना वास्तविक स्वरुप ले तो फिर कितनी भी बड़ी दमनकारी ताकत हो उसे झुकना पड़ेगा अन्यथा एकजुटता व हिम्मत के साथ साथ विश्वास के अभाव में बड़ी से बड़ी क्रांति भी दम तोड़ देती हैं। 
           साथियो हमे इस आंदोलन को *आज करो अर्जेंट करो* नारे के साथ एक संविदा स्वास्थ्य क्रांति लानी है जिससे प्रदेश ही नहीं देश की राजधानी में प्रदेश के राजा उत्तर प्रदेश से इस क्रांति का शोर दस्तक दे…..सञ्जय पंकज शर्मा
प्रदेश संगठन मंत्री ,यूपी एनएचएम यूनियन डा राम सुरेश राय ,प्रदेश अध्यक्छ कन्हैया ओझा और पी एचसी मुरली छपरा डा संतोष कुमार आदि मौजूद रहे

Comments

comments

x

Check Also

बैरिया:ऐतिहासिक महावीरी झंडा जुलूस गाजे-बाजे के साथ,(साक्षी क्लिनिक)सेवा शिविर लगाया….  

🔈 Listen to this डॉ। गंगा सागर (साक्षी क्लिनिक) के सदस्यों ने श्रद्धालुओं के लिए सेवा शिविर लगाकर कॉलरों में ...